Personalized
Horoscope

शनि गोचर 2019: साढ़ेसाती से बचने के लिए करें ये उपाय

शनि गोचर 2019शनि ग्रह को शनि देव के रूप में पूजा जाता है। वैदिक ज्योतिष में इस ग्रह का बड़ा महत्व है। यह आयु, दुख, रोग-पीड़ा, कर्मचारी एवं सेवक का कारक है। शनि ग्रह ग्रह को मकर और कुंभ राशि का स्वामित्व प्राप्त है। इसके साथ ही यह पुष्य, अनुराधा और उत्तराभाद्रपद नक्षत्र का स्वामी भी है। पौराणिक शास्त्रों में शनि देव को भगवान सूर्य और माता छाया का पुत्र कहा गया है। यदि शनि की शुभ दृष्टि हो तो यह जातकों को कर्मशील, कर्तव्यनिष्ठ और न्याय प्रिय बनाता है। लेकिन शनि के बुरे प्रभाव से कई प्रकार के कष्टों का सामना करना पड़ता है।

शनि वर्ष 2019 में धनु राशि में स्थित होगा। लेकिन 30 अप्रैल को यह वक्री गति करेगा और 18 सितंबर को धनु राशि में पुनः मार्गी होगा। साथ ही 20 जनवरी 2019 तक यह अस्त रहेगा। वहीं साल के अंत में 27 दिसंबर को शनि पुनः अस्त होगा और 31 जनवरी 2020 तक इसी स्थिति में रहेगा। आईये जानते हैं साल 2019 में शनि की यह स्थिति आपके जीवन को किस तरह प्रभावित करेगी।

मेष

शनि ग्रह आपकी राशि से नवम में गोचर करेगा। यह भाव व्यक्ति के भाग्य, पिता, गुरु, राजयोग एवं धर्म का बोध कराता है। राशिफल के अनुसार यह स्थिति आपके लिए अनुकूल नहीं होगी। इस समय आपके शत्रुओं की ताक़त बढ़ सकती है। आपको सही समय का इंतज़ार करना होगा। कार्यक्षेत्र में सफलता की मंजिल तक पहुँचने के लिए आपको जी-जान से मेहनत करनी होगी। शनि के प्रभाव से आपके प्रमोशन या इंक्रीमेंट में देरी हो सकती है। इस समय आपकी आमदनी में कमी हो सकती है। इसलिए आपको अपने खर्चों में भी कमी करनी होगी। अक्टूबर 2019 के बाद से परिस्थितियाँ आपके अनुकूल नज़र आएंगी। छोटे भाई बहनों को भी चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। उनकी सेहत ही ख़राब हो सकती है। इस दौरान उन्हें आपकी मदद की आवश्यकता पड़ सकती है।

उपाय: गाय को घी लगी रोटी खिलाएं।


वृषभ

शनि ग्रह आपकी राशि आठवें भाव में प्रवेश करेगा। आठवाँ भाव व्यक्ति की आयु, रहस्य, दुर्घटना, मृत्यु एवं गुप्त या आकस्मिक रूप से मिलने वाले धन को दर्शाता है। राशिफल के अनुसार शनि गोचर 2019 आपकी आर्थिक स्थिति को प्रभावित कर सकता है। इस समय आपको व्यापार में घाटा हो सकता है। इसलिए सोच समझकर आर्थिक फैसलें लें। हालाँकि यदि आप किसी क्षेत्र में जॉब कर रहे हैं तो आपको अच्छी ख़बर मिलेगी। इस समय जॉब में प्रमोशन या अन्य प्रकार के अच्छे अवसर मिलेंगे। हालाँकि निजी तौर पर आप काम में व्यस्त रहेंगे और परिवार को कम समय दे पाएंगे। लेकिन आपको परिवार के लिए भी समय निकालना होगा। बेवजह के झमेले में न पड़ें। साथ ही संतान की पढ़ाई-लिखाई में ध्यान दें और अपने पिता जी की सेहत का ख्याल रखें।

उपाय: काले कपड़े और जूते का दान करें।

मिथुन

शनि ग्रह आपकी लग्न राशि से सातवें घर में जाएगा। कुंडली में सातवाँ घर जीवनसाथी, वैवाहिक जीवन और कार्य, व्यवसाय या अन्य चीज़ों में होने वाली साझेदारी के बारे में बताता है। इस समय माता जी की सेहत कुछ कमज़ोर हो सकती है। आपको उनकी सेहत का ख्याल रखना होगा। यदि आप किसी कोर्ट कचहरी में किसी क़ानूनी केस का सामना कर रहे हैं तो उसमें आपकी जीत होगी। आप करियर में उन्नति करेंगे। घर में शांतिपूर्ण वातावरण देखने को मिलेगा। अपनी आर्थिक स्थिति को और बेहतर बनाने के लिए आप किसी बिजनेस या प्रॉपर्टी में धन निवेश करेंगे।

उपाय: मध्य अंगुली में काले घोड़े की नाल की अंगूठी पहनें।

कर्क

शनि आपकी राशि से छटे भाव में गोचर करेगा। कुंडली का छटा भाव शत्रु, हानि, रोग, पीड़ा आदि के बारे में बताता है। शनि गोचर 2019 कर्क राशि के जातकों के लिए शुभ संकेत नहीं दे रहा है। इस समय आपको मानसिक तनाव की समस्या रह सकती है। ऐसे समय में आपको अपने दोस्तों के साथ समय बिताना चाहिए और उनके साथ अपनी समस्याओं को साझा करनी चाहिए। इससे आपका मन हल्का होगा। वहीं भाई बहनों को चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। शनि आपकी सेहत पर प्रतिकूल असर डालेगा। इसलिए अपनी फिटनेस का भी ध्यान रखें।

उपाय: पक्षियों को सात तरह के अनाज खिलाएं।


सिंह

शनि ग्रह आपकी राशि से पाँचवें भाव में संचरण करेगा। यह भाव बुद्धिमता, लगाव, संतान, प्रसिद्धि एवं पद के विषय में बताता है। इस समय आप अपने परिजनों या फिर दोस्तों के साथ घूमने जा सकते हैं। कार्यक्षेत्र से आपको अच्छी ख़बर मिेलगी। नौकरी में प्रमोशन की प्रबल संभावना है। कार्य की अधिकता के कारण आप बिजी रहेंगे। इस दौरान अपनी सेहत का भी ध्यान रखें। पैसों की बचत करें। फालतू के ख़र्चों पर लगाम लगाएँ। किसी व्यापार की शुरुआत के लिए समय बहुत अनुकूल रहेगा। विद्यार्थियों का मन पढ़ाई में लगेगा और उन्हें अच्छे परिणाम भी मिलेंगे। अविवाहित जातक अपने विवाह के बारे में सोच सकते हैं।

उपाय: पीपल के पेड़ के नीच सरसों के तेल का दीया जलाएं।

कन्या

साल 2019 में शनि ग्रह आपकी राशि से चौथे भाव में प्रवेश करेगा। कुंडली में यह भाव माता, सुख-सुविधा, चल-अचल संपत्ति के बारे में बताता है। इस समय आपके करियर में ग्रोथ होगी। ऐसा संभव है कि आपकी मेहनत का फल वैसा न हो जैसा आप चाहते थे। कार्यक्षेत्र में काम ज्यादा रहेगा। ऐसे में आपको अपनी सेहत का भी ध्यान रखना होगा। रोज़ाना योग-एक्सरसाइज करना फिटनेस के लिए अच्छा रहेगा। आपके निवास स्थान में परिवर्तन देखने को मिल सकता है। वहीं छात्रों को पढ़ाई में दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है। ध्यान रखें व्यापार में निवेश करने का यह शुभ नहीं है। इस समय आध्यात्म के प्रति आपकी रूचि बढ़ेगी, परमार्थ के कार्यों में आपका मन लगेगा।

उपाय: शनिवार के दिन हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाएं।

तुला

साल 2019 में शनि आपकी राशि से तीसरे भाव में प्रवेश करेगा। कुंडली में तीसरा भाव साहस, शौर्य, पराक्रम, मानसिक संतुलन और परिवार में छोटे भाई बहनों की स्थिति के बारे में बताता है। शनि का गोचर आपके लिए शुभ संकेत दे रहा है। इस समय आपके साहस में वृद्धि होगी और आपका आत्म विश्वास भी बढ़ेगा। आपका प्रदर्शन कार्यक्षेत्र में सराहनीय रहेगा। नौकरी में तरक्की होगी। यदि आप व्यापार से ताल्लुक रखते हैं तो उसमें भी आपको अच्छा मुनाफा होगा। दोनों ही स्थिति में आपकी आमदनी बढ़ेगी। इस समय आप पैसों की बचत करने में भी कामयाब रहेंगे। छात्रों किसी अच्छे कॉलेज में दाखिला मिलेगा। इस समय अपनी सेहत पर भी ध्यान दें।

उपाय: बंदर और कुत्तों को लड्डू खिलाएं।


वृश्चिक

शनि गोचर आपकी राशि से दूसरे भाव में जाएगा। जन्म कुंडली में दूसरा भाव धन, नेत्र, वाणी और परिवार के बारे में बताता है। शनि गोचर 2019 आपके लिए समस्या कारक रहेगा। विविध क्षेत्रों में आपको बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है। हालाँकि कार्य को लेकर आपको विदेश जाने का अवसर मिलेगा। आर्थिक क्षेत्र में आपको सफलता मिलने की संभावना है। धन निवेश से आपको लाभ मिलेगा। पारिवारिक जीवन को लेकर आपको थोड़े सजग रहने की सलाह दी जाती है। घर से जुड़े विवादों को सुलझाने का प्रयास करें। क्रोध में आकर कटु भाषा का प्रयोग न करें। क्योंकि इससे मामला और भी ज्यादा उलझ सकता है।

उपाय: रोगियों की सेवा करें।

धनु

शनि ग्रह आपकी राशि में गोचर करेगा और यह आपके लग्न भाव में प्रवेश करेगा। कुंडली में लग्न भाव स्वयं के बारे में बताता है। यह व्यक्ति के जन्म एवं स्वभाव को दर्शाता है। इस समय शनि आपके जीवन पर गहरा प्रभाव डालेगा। आप किसी बिजनेस या प्रॉपर्टी में निवेश करने की योजना बना सकते हैं। व्यक्तिगत जीवन में आपको अपने क्रोध पर संयम रखना होगा। वहीं वैवाहिक जीवन में भा ध्यान देने की आवश्यकता होगी। जीवनसाथी की भावनाओं को समझकर उनके साथ कदम से कदम मिलाकर चलें। अगर दोनों के बीच किसी तरह का मतभेद है तो उसे बातचीत के माध्यम से सुलझाएँ। इस अवधि में आप कार्य स्थल पर अच्छा कार्य करेंगे और अपने काम के प्रति ईमानदारी बरतेंगे। कार्य की अधिकता से आपके ऊपर दबाव पड़ेगा। ऐसे में ख़ुद के लिए और परिजनों के लिए समय निकालें। साथ ही अपनी सेहत पर भी पूरा ध्यान दें।

उपाय: मांसाहार और शराब के सेवन से परहेज करें।

मकर

शनि ग्रह आपकी लग्न राशि से बारहवें भाव में जाएगा। कुंडली का 12वाँ भाव व्यय, नुकसान और मोक्ष का बोध कराता है। शनि गोचर आपकी सेहत के लिए ठीक नहीं है। इस समय आपको अपने फिटनेस पर बहुत ध्यान देना होगा। वहीं विद्यार्थियों को उच्च अध्ययन के लिए विदेश जाने का अवसर मिलेगा। करियर में आपको बहुत सावधानी से काम करना होगा। शनि का गोचर आपके करियर पर बुरा प्रभाव डाल सकता है। इस समय आपको संघर्ष करना पड़ सकता है। वहीं आर्थिक जीवन को सुचारू रूप से चलाने के लिए आपको आर्थिक प्रबंधन की आवश्यकता पड़ेगी। आपको अपने अनावश्यक ख़र्चों पर लगाम लगाना होगा। दूसरी ओर गैर क़ानूनी और अनैतिक कार्यों से आपको बचना होगा।

उपाय: जटा वाले नारियल नदी में प्रवाहित करें। हनुमान चालीसा का पाठ करें।


जानें साल 2019 के लिए क्या कहता है आपका मूलांक: अंक ज्योतिष 2019

कुंभ

शनि गोचर आपकी राशि से ग्यारहवें भाव में होगा। कुंडली के ग्यारहवें भाव से आमदनी, लाभ और अभिलाषा पूर्ति को देखा जाता है। शनि का यह गोचर आपके प्रेम जीवन को गति देगा। वहीं दांपत्य जीवन में लाइफ पार्टनर के साथ रोमांस करने का अवसर मिलेगा। करियर जीवन में आपको सफलता मिलेगी। सेहत की दृष्टि से भी गोचर आपके लिए अनुकूल साबित होगा। धर्म और आध्यात्म के विषय में आप रुचि ले सकते हैं। इस समय मानसिक रूप से आप प्रसन्न रहेंगे और आपको भाग्य का भी साथ मिलेगा। व्यापार में मुनाफा होगा। धन के निवेश से आपको आर्थिक लाभ मिलेगा। छात्रों को अपनी पढ़ाई पर ध्यान देने की आवश्यकता होगी।

उपाय: मंदिर में सरसों के तेल का दान करें।

मीन

शनि का गोचर आपकी राशि से दसवें भाव में होगा। कुंडली में दसवें भाव से व्यक्ति के कार्यक्षेत्र, व्यवसाय, करियर को देखा जाता है। ज्योतिष में इसे कर्म का भाव भी कहते हैं। इस समय आपको अपने करियर जीवन में सफलता मिलेगी। आपके कड़े परिश्रम का फल मिलेगा। आप नौकरी में तरक्की करेंगे। हालाँकि निवेश के लिए मिलाजुला समय रहेगा। गोचर के दौरान विदेश जाने के प्रबल योग बन रहे हैं। कार्य के सिलसिले में विदेश जाना पड़ सकता है। ध्यान रखें, आय की तुलना में आपके खर्च बढ़ सकते हैं इसलिए फिजूलखर्ची पर नियंत्रण रखें। आपको अपने वैवाहिक जीवन पर भी ध्यान देना होगा। जीवनसाथी के साथ बेवजह न उलझें।

उपाय: शनिवार के दिन काले कुत्ते को रोटी खिलाएं।

Do you want to get married?

FREE Matrimony site by No. 1 astrology portal AstroSage.com