Personalized
Horoscope

राहु गोचर 2020: सभी राशियों पर प्रभाव एवं उपचार

राहु गोचर 2020राहु एक ऐसा ग्रह है जिसके बारे में सुनकर ज्यादातर लोग थोड़े घबरा से जाते हैं। कुछ लोग सोचते हैं कि राहु ग्रह का हमेशा बुरा प्रभाव ही पड़ता है, जबकि यह बात सत्य नहीं है। राहु ग्रह को लेकर कहा गया है कि, राहु जिसे मारे उसे कौन तारे और राहु जिसे तारे उसे कौन मारे। ये बात सुनकर आपको पता चल गया होगा कि राहु सिर्फ बुरे फल ही नहीं देता बल्कि किसी पर मेहरबार हो जाए तो छप्परफाड़ के धन और सफलता भी देता है। वहीं राहु की स्थिति अगर आपकी कुंडली में खराब हो तो आपको मानसिक परेशानियों से जूझना पड़ सकता है, अगर राहु की स्थिति अच्छी हो तो जातक को धन लाभ होता है, और राजनीति के क्षेत्र में भी भविष्य उज्जवल होता है। राहु की अच्छी स्थिति जातक को समाज में मान सम्मान भी दिलाती है।

इस वर्षारंभ से ही राहु मिथुन राशि में स्थित रहेगा और 23 सितंबर 2020 के बाद अपनी स्थिति बदलेगा। 23 सितंबर 2020 सुबह 08:20 पर राहु मिथुन से वृषभ राशि में संचार करेंगे। वैदिक ज्योतिष के अनुसार कलयुग में राहु ग्रह का मानव जीवन पर अत्यधिक प्रभाव पड़ता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि विभिन्न राशियों पर 2020 में राहु ग्रह का क्या प्रभाव पढ़ेगा।

मेष (राहु गोचर 2020)

  • राहु का गोचर मेष राशि से तीसरे भाव में यानि मिथुन राशि में रहेगा।
  • वैदिक ज्योतिष के अनुसार तीसरे भाव को पराक्रम भाव भी कहा जाता है। इसीलिए राहु का तीसरे भाव में गोचर बहुत शुभ माना जाता है।
  • मेष राशि के जातकों के लिए भी राहु का तीसरे भाव में गौचर बहुत शुभ है।
  • राहु के मिथुन राशि में गोचर के दौरान आपके साहस और पराक्रम में वृद्धि होगी।
  • इस गोचर काल के दौरान आप ऊर्जावान होंगे और अपने दम पर कई काम कर लेंगे। आपको किसी की सहायता की जरुरत भी नहीं होगी।
  • मेष राशि के वो जातक जो खेल के क्षेत्रों से जुड़े हैं उन्हें अपनी प्रतिभा दिखाने के लिए कोई बड़ा मंच मिल सकता है।
  • शादीशुदा लोगों के लिए राहु का गोचर कुछ गलतफहमियां लेकर आ सकता है इसलिए सोच समझकर चलें।
  • आय के लिए सितंबर तक का समय अनुकूल है और इस दौरान आपको धन लाभ हो सकता है।
  • सितंबर के बाद राहु आपकी राशि से दूसरे भाव में गोचर कर जाएगा इस दौरान अपने शब्दों को सोच समझकर बोलें और अपने खर्चे पर ध्यान दें।

वृषभ (राहु गोचर 2020)

  • वृषभ राशि से राहु का गोचर धन भाव यानि दूसरे भाव में रहेगा।
  • आपको सलाह दी जाती है कि धन से जुड़े मामलों में इस दौरान सतर्क रहें।
  • इस समय आपके द्वारा कुछ ऐसे खर्चे भी हो सकते हैं जिनकी आवश्यकता नहीं होगी और इस बात का पता आप को बाद में चलेगा।
  • अपनी वाणी पर भी इस दौरान नियंत्रण रखें नहीं तो आपके रिश्ते टूट सकते हैं।
  • कार्यक्षेत्र में अपने अहम को खुद पर हावी होने से बचें नहीं तो नुकसान उठाना पड़ सकता है।
  • सितंबर के बाद राहु आपकी ही राशि में गोचर होगा जिसके चलते आपको गलतफहमियां हो सकती हैं और मानसिक तनाव भी हो सकता है।

मिथुन (राहु गोचर 2020)

  • मिथुन राशि में ही राहु का गोचर होने से इस वर्ष की शुरुआत मिथुन राशि के जातकों के लिए थोड़ी परेशानियों से भरी रहेगी।
  • वर्षारंभ में आपको भ्रम और मानसिक तनाव हो सकता है।
  • व्यापार से जुड़े लोगों को लेन-देन में सतर्क रहने की सलाह दी जाती है नहीं तो धोखा मिल सकता है।
  • आप इस गोचर के चलते छोटी-छोटी यात्राएं कर सकते हैं।
  • वहीं साल के मध्य में आप अपने परिवार के किसी मांगलिक कार्य में व्यस्त रहेंगे।
  • पिता के साथ अनबन से बचें नहीं तो आपके ही भाई-बहन इस बात का फायदा उठा सकते हैं।
  • वैवाहिक जीवन में किसी गलतफहमी की वजह से परेशानी आ सकती है। सितंबर 2020 के बाद से स्थितियां सुधरेंगी।

कर्क (राहु गोचर 2020)

  • कर्क राशि से बारहवें भाव में राहु के गौचर के चलते आपको मानसिक तनाव की स्थिति से गुजरना पड़ सकता है।
  • राहु का मिथुन राशि में गौचर कर्क राशि के उन जातकों के लिए अच्छा रहेगा जो विदेश जाने का सपना देख रहे हैं।
  • वैवाहिक जोड़ो के लिए भी यह वक्त अच्छा है इस वक्त आपके पार्टनर को कोई उपलब्धि मिल सकती है जिससे वैवाहिक जीवन सुखपूर्ण गुजरेगा।
  • इस वर्ष आपके द्वारा उधार दिया गया धन वापस आ सकता है।
  • सितंबर के बाद राहु का ग्यारहवें भाव में गोचर होगा जो आपके लिए शुभ रहेगा और आपको धन लाभ हो सकता है।

सिंह (राहु गोचर 2020)

  • साल 2020 की शुरुआत से सितंबर तक राहु आपकी राशि से एकादश भाव में गोचर रहेगा।
  • यह वक्त आर्थिक स्थिति के हिसाब से अनुकूल रहने की संभावना है।
  • इस समय जो भी धन आये उसका संचय करें यह आने वाले वक्त में आपके काम आएगा।
  • वैवाहिक जीवन में कुछ परेशानियां आ सकती हैं क्योंकि अपने काम के चलते आप अपने परिवार को बहुत कम समय दे पाएंगे।
  • अगस्त महीने में आपके जीवन में कोई ऐसा शख्स आ सकता है जिससे आपको प्रेम हो सकता है।
  • सितंबर के बाद राहु का वृषभ राशि में गोचर कुछ भ्रम की स्थितियां पैदा कर सकता है।

कन्या (राहु गोचर 2020)

  • राहु का गोचर कन्या राशि से दशम भाव में चल रहा है।
  • इस गोचर के चलते आपको कोई भी नया काम शुरू नहीं करना चाहिए नहीं तो नुकसान उठाना पड़ सकता है।
  • कार्यक्षेत्र में भ्रम की स्थिति पैदा हो सकती है और साथी कर्मचारियों से कुछ मतभेद भी हो सकते हैं।
  • हालांकि परिस्थितियां कैसी भी हों आपका जीवन साथी आपके लिए हर स्थिति में मददगार साबित होगा।
  • संतान के कारण कुछ मानसिक परेशानियां हो सकती हैं।
  • सितंबर के बाद आप धार्मिक यात्राएं कर सकते हैं और आध्यात्म की तरफ आपका झुकाव बढ़ सकता है।

तुला (राहु गोचर 2020)

  • तुला राशि से नवम भाव में राहु का गोचर चल रहा है।
  • इस गोचर के चलते तुला राशि के जातकों को साल की शुरुआत में लगेगा कि सब काम बन रहे हैं लेकिन किसी कारणवश रुकावटें आएंगी और काम अटक जाएगा।
  • आपकी संतान की वजह से भी आपके जीवन में खटास आ सकती है।
  • पिता से भी कुछ मतभेद होने की इस साल संभावना है।
  • धार्मिक यात्रा पर जाने का योग बनता दिख रहा है।
  • सितंबर के बाद स्थितियां सुधरेंगी और किसी शोध कार्य में रूचि बढ़ सकती है जिसके लिए विदेश यात्रा पर जाना हो सकता है।

वृश्चिक (राहु गोचर 2020)

  • इस साल राहु का गोचर आपकी राशि से अष्टम भाव में रहेगा।
  • इस साल आपको उस विषय में सफलता मिलेगी जिसको लेकर आप लंबे समय से शोध कर रहे थे इससे आपको नयी ऊर्जा प्राप्त होगी और आप आगे बढ़ेंगे।
  • आपके बॉस की नज़र में आपका काम आ जाने से इस साल प्रमोशन मिल सकता है।
  • इस वर्ष आप माता-पिता के साथ किसी धार्मिक यात्रा पर भी जा सकते है।
  • लेकिन सितंबर के बाद राहु का वृषभ राशि में गोचर आपके वैवाहिक जीवन में तनाव पैदा कर सकता है।

धनु (राहु गोचर 2020)

  • इस साल की शुरुआत से सितंबर तक राहु आपकी राशि से सप्तम में रहेगा।
  • इस दौरान व्यापार से जुड़े मामलों को लेकर सावधान रहें अपने साझेदार पर आँख मूंद कर यकीन ना करें।
  • मित्रों की संगत से दूर रहने की कोशिश करें।
  • आपके वैवाहिक जीवन में राहु की स्थिति की वजह से भ्रम पैदा हो सकता है, बातचीत से मामलों को सुलझाने की कोशिश करें।
  • सितंबर से राहु का गोचर धनु राशि से छटे भाव में होगा जिससे आपको शुभफल मिलेंगे और आपके शत्रु परास्त होंगे।
  • अगर आप किसी केस में फंसे हैं तो इस साल फैसला आपके पक्ष में आ सकता है।

मकर (राहु गोचर 2020)

  • वर्ष 2020 की शुरुआत से राहु का गोचर मकर राशि से छटे भाव में रहेगा।
  • इस दौरान कर्ज के मामलों में आपको राहत मिलेगी।
  • यदि आप किसी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो अच्छे परिणाम मिलेंगे।
  • किसी विवाद में फंसे हैं तो राहु आपको वहां से भी बाहर निकाल देगा।
  • वैवाहिक जीवन में राहु कुछ परेशानियां ला सकता है।
  • जहां आप नौकरी करते हैं इस साल वहां किसी से भी अपने मन की बात साझा न करें ये घातक हो सकता है।
  • सितंबर के बाद पंचम भाव में राहु का गोचर होने से भ्रम का सा माहौल बना रहेगा।
  • संतान के साथ तनाव की स्थिति बन सकती है।

कुंभ (राहु गोचर 2020)

  • कुंभ राशि से राहु का गोचर पंचम भाव में है, जिसके चलते शिक्षा में बाधा आ सकती है।
  • इस गोचर की वजह से आपको नकारात्मक विचार घेर सकते हैं।
  • वैवाहिक जीवन में किसी तीसरे व्यक्ति की वजह से आपसी रिश्ता ख़राब हो सकता है।
  • वहीं कार्यक्षेत्र में आपका उत्साह बना रहेगा और तरक्की मिलने के भी आसार हैं।
  • इसके साथ ही इस वर्ष आपके वेतन में भी वृद्धि हो सकती है।
  • अपने परिवार को पूरा समय दें ताकि आपके रिश्तों की गर्माहट कम न हो।

मीन (राहु गोचर 2020)

  • आपकी राशि से चतुर्थ भाव में यानि मिथुन राशि में राहु का गोचर बना हुआ है, जिस वजह से माता के साथ कुछ अनबन हो सकती है और मानसिक तनाव भी बढ़ सकता है।
  • कार्य को लेकर छोटी-छोटी यात्राओं पर जाने का योग बना हुआ है।
  • कुछ ऐसे खर्चे हो सकते हैं जिनकी असल वजह आप खुद भी नहीं जान पाएंगे।
  • आर्थिक स्थिति खराब होने की वजह से वैवाहिक जीवन में भी परेशानियां आ सकती हैं।
  • व्यवसाय से जुड़ा हर फैसला सोच-समझकर ही लें।
  • सितंबर से राहु का आपकी राशि से तीसरे भाव में गोचर रहेगा, जिसके चलते आपकी सारी परेशानियां दूर हो जाएंगी।
  • नये काम की शुरुआत के लिए यह समय अनुकूल रहेगा।

हम आशा करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आयी होगी। माई कुंडली आपके उज्जवल भविष्य की कामना करता है।