Personalized
Horoscope

नाम के अनुसार कुंडली मिलान करें और देखें कितनी ख़ास है ये जोड़ी

My Kundli आपके लिए लेकर आया है अपना सबसे सटीक नाम से कुंडली मिलान टूल, जो पूरी तरह वैदिक ज्योतिष के सिद्धांतों पर आधारित है और जिसकी मदद से वर और वधु की कुंडली की पूरी गणना करने के बाद आपको सटीक परिणाम बताया जाता है। हमारे नाम के अनुसार कुंडली मिलान टूल द्वारा आपको न केवल वर-वधु के सारे गुणों की जानकारी मिलती है बल्कि आप इसकी मदद से दोनों के सभी दोषों की संपूर्ण जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए आपको केवल नीचे दिए गए हमारे टूल में भावी वर और वधु के नाम को भरना होगा जिसके बाद आप निःशुल्क कुंडली मिलान कर पाने में सक्षम होंगे।

नाम से कुंडली मिलान (Kundli Milan in Hindi)


naam ke anusar kundli milan नाम से कुंडली मिलान इसलिए आवश्यक है क्योंकि कई बार वर और वधु की सही जन्म कुंडली का पता नहीं होता है। इस कारण भावी जोड़े के नाम से कुंडली मिलान कर उनके बीच के गुणों की संगतता को देखा जा सकता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, एक सफल वैवाहिक जीवन के लिए विवाह से पहले ही वर और वधु का कुंडली मिलान अवश्य किया जाना चाहिए। इससे उनके वैवाहिक जीवन में आने वाली हर प्रकार की समस्या को दूर किया या टाला जा सकता है। हमारा नाम से कुंडली मिलान टूल न केवल वर-वधु के लिए बल्कि ज्योतिषियों एवं ज्योतिष से जुड़े सभी शोधों और ज्योतिष विद्यार्थियों के लिए भी बेहद कारगर है।

वैवाहिक जीवन को सफल बनाने के लिए ज़रूर करें कुंडली मिलान

आज के आधुनिक दौर में नाम के अनुसार कुंडली मिलान करने से लोगों के दिमाग में एक वहम की स्थिति ज़रूर पैदा हो जाती है। जिससे व्यक्ति आमतौर से थोड़ी असमंजस की स्थिति में पड़ जाता है कि उनके नाम का प्रयोग कर मिलाई गयी कुंडली क्या पूरी तरह सही होगी या नहीं या उस कुंडली से जो परिणाम आएँगे वे सटीक होंगे या नहीं? इसी स्थिति को भली-भाँती समझते हुए हमारे ज्योतिष विशेषज्ञों का ये कहना है कि कुंडली मिलान के लिए सबसे सही और सटीक तरीका वर और कन्या की जन्म पत्रिका का मिलान करना होता है।

परंतु इस बात में भी कोई दोराय नहीं है कि हममें से बहुत सारे लोग ऐसे भी हैं जिन्हें अपनी जन्म तिथि, समय और जन्म स्थान की सटीक जानकारी नहीं होती है और इसी कारण ये लोग कई ज्योतिषीय लाभों से वंचित रह जाते हैं। ऐसे में आपकी इसी समस्या को समझते हुए ही हम इसके समाधान हेतु इस टूल के जरिये एक नई सुविधा की शुरुआत कर रहे हैं जिसकी मदद से कोई भी जातक अपने नाम से कुंडली मिलान करने में अब पूरी तरह सक्षम होगा। इस टूल का इस्तेमाल करना भी बेहद आसान है और इसकी मदद से जो भी जानकारी आप प्राप्त करेंगे वे पूरी तरह गोपनीय एवं आपके लिए बेहद मददगार साबित होगी।

ऐसे किया जाता है जन्म पत्रिका मिलान

वैदिक ज्योतिष की माने तो नाम से कुंडली मिलान का अर्थ होता है भावी वर और वधु दोनों के नाम से ग्रहों एवं नक्षत्रों की सही गणना करना और इसके अनुसार उनके सभी गुणों का मिलान करना। कुंडली मिलान की इस महत्वपूर्ण प्रक्रिया में विवाह के लिए प्रस्तावित दोनों वर और कन्या के नाम की मदद से यह ज्ञात किया जाता है कि आपस में उनके कितने गुण एक दूसरे से मेल खाते हैं। जिसके बाद उन्हीं गुणों के आधार पर यह तय किया जाता है कि उनका वैवाहिक जीवन कैसा होने वाला है। ज्योतिष में यह माना गया है कि वर और कन्या के 36 गुणों में से कम से कम 18 गुण मेल खाने पर विवाह का शुभ संकेत मिलता है।

हालाँकि इस बात को भी नकारा नहीं जा सकता है कि जब नाम से कुंडली मिलान किया जाता है तो कुछ परिस्थितियों में वर-वधु के ग्रहों-नक्षत्रों से जो गणना की जाती है वह पूरी तरह से ठीक नहीं होती है। क्योंकि इसमें सबसे महत्वपूर्ण दो परिस्थितियाँ आती हैं जिनके बारे में जानना आपके लिए बेहद आवश्यक हैं:-

  • पहला ये कि वर या वधु का नाम जन्म के समय ग्रहों-सितारों की गणना के अनुसार ही रखा गया था और,
  • दूसरा कि उस समय अभिभावकों ने ऐसे ही उनका कोई पसंदीदा नाम रख दिया था।

कुंडली के अनुसार ही होना चाहिए बालक का नामकरण

पुराने जमाने में ये अक्सर देखने को मिलता था कि बालक या बालिका का जन्म होते ही अभिभावक पंडित को बुलाया करते थे। जिसके बाद बालक या बालिका के जन्म समय और उस समय ग्रहों-सितारों की स्थिति को देखकर पंडित उनका नाम निकालते थे। पंडित द्वारा सुझाए गए अक्षर से ही अभिभावक बालक का नाम रखा करते थे। लेकिन आज आधुनिक समय में यह सब नहीं होता है। आजकल अभिभावक बालक के जन्म से पहले ही उसका नाम सोच लेते हैं और बच्चे का जन्म होने पर विधि अनुसार किसी पंडित से नामकरण न कराते हुए अपनी मर्ज़ी का नाम ही रख देते हैं, जिससे भविष्य में बालक को कई प्रकार के नुकसान उठाने पड़ते हैं।

इसे समझने के लिए उदाहरण के तौर पर मान लीजिए कि आपके बच्चे का नाम निकला है ‘म’ अक्षर से और आपने अपनी मर्जी से उसका नाम ‘त’ अक्षर से रख दिया। इस तरह से ‘म’ अक्षर के आधार पर बनी सिंह राशि और ‘त’ अक्षर से वृश्चिक राशि हो जाती है। ऐसे में अगर भविष्य में आवश्यकता पड़ने पर यदि आपका बच्चा अपना राशिफल देखता है तो वह अपने नाम के हिसाब से ही अपनी राशि का चयन करेगा जोकि उसके जन्म के अनुसार सरासर गलत होगा क्योंकि जन्म के अनुसार जिस अक्षर से बालक के भाविभावकों को उसका नाम रखना था असल में उसका नाम उस अनुसार तो रखा ही नहीं गया। जिसके परिणाम स्वरूप वो अपना राशिफल गलत देखेगा।

ऐसे में ये सवाल उठता है कि जब नाम राशि सही रखी ही नहीं है तब आप उससे अपना सटीक राशिफल कैसे देख सकते हैं। ठीक इसी तरह कई लोगों को यह पता नहीं होता है कि राशिफल हमेशा जन्म राशि से ही देखा जाता है ना कि नाम राशि से।

आज इंटरनेट पर आपको कई ऐसे लोग मिल जाएंगे जो अपने नाम से कुंडली का मिलान कराना चाहते हैं। इन लोगों को यदि अपनी सही जन्म राशि ज्ञात नहीं है तो ये अपनी जन्म कुंडली में चंद्रमा जिस राशि में बैठा है उसे अपनी जन्म राशि मानकर और उसी जन्म राशि के आधार पर यह तय कर सकते हैं कि भावी वधु या वर से उनके विचार कितने मिलेंगे।

आजकल नाम से कुंडली मिलान टूल काफ़ी प्रचलन में है जिसका इस्तेमाल लोग भावी वर व कन्या के कुंडली मिलान के लिए कर रहे हैं। ऐसे में यदि आपको भी अपने जन्म का सही समय ज्ञात नहीं है तो आप भी अपने नाम का प्रयोग कर इस टूल की मदद से कुंडली मिलान कर सकते हैं। जिसमें नाम से कुंडली मिलान के समय वर-वधू की ग्रह राशि में चंद्र की स्थिति का विश्लेषण कर उनके गुणों का पता किया जाता है। इससे निकाला गया परिणाम भी आपके भविष्य और आने वाले वैवाहिक जीवन के लिए काफी हद तक मददगार साबित होता है।

हम आशा करते हैं कि हमारा नाम से कुंडली मिलान टूल आपके लिए उपयोगी साबित होगा। हम आपके उज्जवल भविष्य की कामना करते हैं।