Personalized
Horoscope

केतु गोचर 2020: केतु का धनु में राशि परिवर्तन

केतु गोचर 2020केतु को वैदिक ज्योतिष में एक मायावी और रहस्य से भरे ग्रह का दर्जा प्राप्त है। केतु ग्रह के बारे में कहा जाता है कि अगर ये कुंडली में शुभ स्थान में हो तो भंडार भर देता है और अगर इसकी स्थिति कुंडली में खराब हो तो यह सारा भंडार खाली भी कर देता है। केतु जितनी जल्दी धन और प्रतिष्ठा इंसान को देता है उतनी ही जल्दी उससे छीन भी लेता है। केतु की माया किसी पर चल गयी तो वो इंसान अपने सामने किसी को कुछ नहीं समझता। वहीं केतु के अच्छे प्रभावों से इंसान की कल्पना शक्ति को सकारात्मकता मिलती है।

साल 2020 के आरंभ में केतु का गोचर धनु राशि में होगा और सितंबर तक केतु धनु राशि में ही स्थित रहेगा। 23 सितंबर, 2020 के बाद प्रात: 08:20 पर केतु राशि परिवर्तन करेगा और वृश्चिक राशि में प्रवेश करेगा। साल के अंत तक केतु वृश्चिक राशि में ही गोचर रहेगा। केतु हमेशा राहु की भांति वक्री चाल ही चलता है, तो आइये जानते हैं कि केतु के गोचर का विभिन्न राशियों पर 2020 में क्या प्रभाव पड़ेगा।

मेष राशि (केतु गोचर 2020)

  • वर्ष के शुरू में केतु आपकी राशि से नवम भाव में गोचर करेगा जिससे धर्म से जुड़े कार्यों में आपकी रूचि बढ़ेगी और धार्मिक यात्राओं पर भी जाना हो सकता है।
  • कुछ व्यर्थ की यात्राएं भी हो सकती हैं जिनसे तनाव बढ़ सकता है।
  • जमीन के निवेश को लेकर कोई विचार बनाया है तो उसे त्याग दें बेहतर रहेगा।
  • सितंबर के बाद नवम भाव से अष्टम भाव में केतु के आने से विदेश जाने की आपकी कामना पूरी हो सकती
  • कोई नया कार्य शुरू भी कर सकते हैं।
  • अधिक खर्च करने से बचें नहीं तो मानसिक तनाव का शिकार हो सकते हैं।

वृषभ राशि (केतु गोचर 2020)

  • वर्षारंभ में केतु आपकी राशि से आठवें भाव यानि धनु राशि में गोचर रहेगा, जिसके चलते आप धार्मिक कार्यों के साथ किसी गूढ़ विषय में शोध भी कर सकते हैं।
  • रिसर्च से जुड़ी पढ़ाई कर रहे हैं तो इस वर्ष मनचाही सफलता मिल सकती है।
  • पारिवारिक सुख-शांति के लिए भी केतु का यह गोचर शुभ है।
  • बेवजह के खर्चे आपको मानसिक तनाव में डाल सकते हैं।
  • वैवाहिक जीवन में कोई भी निर्णय सोच समझकर लें।
  • कर्ज के लेन-देन में सावधानी बरतें।

मिथुन राशि (केतु गोचर 2020)

  • केतु वर्ष की शुरुआत में आपकी राशि से सप्तम भाव में गोचर करेगा इस गोचर की वजह से जीवन साथी के साथ आपके कुछ मतभेद हो सकते हैं और वाद-विवाद की स्थिति भी पैदा हो सकती है।
  • अविवाहित लोगों को सलाह दी जाती है कि इस समय में नए साथी का चुनाव न करें।
  • इस गोचर में किसी भी तरह के धोखे से सावधान रहें।
  • किसी पुराने मित्र के आने से आपका अकेलापन इस साल दूर होगा।
  • सितंबर के बाद छात्रों को पढ़ाई पर और नौकरीपेशा लोगों को अपने काम पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।

कर्क राशि (केतु गोचर 2020)

  • आपकी राशि से छटे भाव में केतु वर्ष की शुरुआत में गोचर करेगा। इस समय आपको कई संघर्ष और बाधाओं से रूबरू होना पड़ सकता है।
  • अपने प्रतिद्वंदियों से सावधान रहें वो आपका काम बिगाड़ सकते हैं।
  • विद्यार्थियों को इस दौरान कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी तभी मनचाहे परिणाम मिल पाएंगे।
  • सितंबर के बाद संतान से कुछ मतभेद हो सकते हैं और बच्चों का भी पढाई से ध्यान भटक सकता है।
  • आपका पुराना प्यार वर्ष के अंत में आपकी जिंदगी में वापस आ सकता है।

सिंह राशि (केतु गोचर 2020)

  • वर्ष के आरंभ में केतु आपकी राशि से पांचवे भाव में गोचर रहेगा। यह गोचर आपके निर्णय लेने की क्षमता को क्षीण कर देगा और आपको मानसिक तनाव भी देगा।
  • किसी भ्रम की स्थिति में फंस सकते हैं जिस वजह से आपको घुटन सी महसूस होगी।
  • वैवाहिक जीवन में आपके पार्टनर को कहीं से अन्य आय मिलने की संभावना है जिससे धन से संबंधित परेशानियां दूर हो सकती हैं.
  • सितम्बर के बाद केतु आपकी राशि से चतुर्थ भाव में गोचर करेगा इस दौरान जमीन से जुड़ा कोई भी निवेश न करें।

कन्या राशि (केतु गोचर 2020)

  • वर्ष की शुरुआत से 23 सितंबर तक केतु आपकी राशि से चतुर्थ भाव में रहेगा।
  • केतु का यह गोचर माता और मानसिक सुखों के लिए अच्छा नहीं है।
  • जमीन और घर से जुड़े मामलों में किसी पर भी विश्वास करने से बचें धोखा मिल सकता है।
  • वाहनों को लेकर भी सावधानी बरतें अचानक दुर्घटना के योग बन रहे हैं।
  • नौकरी बदलने की जल्दबाजी न करें इससे आपको नुकसान हो सकता है।
  • सितंबर के बाद केतु का गोचर चतुर्थ भाव से आपके तृतीय भाव में आ जाएगा जिससे छोटी-छोटी यात्राएं हो सकती हैं और इस समय नए कार्य को लेकर भी उत्साहित रहेंगे।

तुला राशि (केतु गोचर 2020)

  • वर्ष शुरू होते ही केतु का यह गोचर आपकी राशि से तृतीय भाव में स्थित रहेगा।
  • केतु के धनु राशि में गोचर के चलते आपको बेवजह की यात्राएं करने पड़ सकती हैं।
  • छोटे भाई-बहनों के साथ गलतफहमी की स्थिति के चलते तनाव आपको घेर सकता है।
  • व्यापार में उतार-चढाव की स्थिति बनी रहेगी।
  • आय को लेकर भी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।
  • अपनी व्यस्त जिंदगी से अपने पार्टनर के लिए भी कुछ समय अवश्य निकालें, नहीं तो रिश्ते बिगड़ सकते हैं।
  • जो लोग खेल में रूचि रखते हैं उन्हें अच्छे स्तर पर खेलने का मौका मिल सकता है।

वृश्चिक राशि (केतु गोचर 2020)

  • केतु का यह गोचर वर्ष की शुरुआत में आपकी राशि से दूसरे भाव में होगा।
  • इस गोचर के दौरान अपनी वाणी पर संयम बनाए रखें। वाद-विवाद की स्थिति में पड़ने से बचें।
  • खेलों से जुड़े इस राशि के जातक इस साल अच्छे लेवल पर जाकर खेल सकते हैं।
  • किसी नए काम को शुरू करने से पहले अपने किसी सहयोगी या सीनियर से सलाह जरूर लें।
  • सितंबर माह से केतु का गोचर आपकी ही राशि में होगा इसलिए कोई भटकाव की स्थिति पैदा हो सकती है।

धनु राशि (केतु गोचर 2020)

  • वर्ष की शुरुआत से सितंबर माह तक केतु का गोचर आपकी ही राशि में है। जिसकी वजह से आपको किसी प्रकार का डर या वहम हो सकता है।
  • मन को शांत रखने के लिए योग करें और धार्मिक स्थलों की यात्रा पर जाएं।
  • केतु का यह गोचर आपकी कल्पना शक्ति को ताकत देगा और आपकी पूर्वाभास की क्षमता भी बढ़ा देगा।
  • पिता से इस समय किसी तरह का मतभेद न रखें।
  • साझेदारी में किसी के साथ कोई काम न करें और कोई भी निर्णय बहुत सोच-समझकर लें।
  • नौकरी में नया पद मिलने के योग बने हुए हैं।
  • साल के अंत में विदेश यात्रा पर जा सकते हैं।

मकर राशि (केतु गोचर 2020)

  • वर्षारंभ से केतु का गोचर आपकी राशि से बारहवें भाव में बना रहेगा। इस दौरान विदेश यात्राएं हो सकती हैं और अनचाहे खर्चे भी हो सकते हैं।
  • लम्बी धार्मिक यात्रा के योग भी बने हुए हैं।
  • इस गोचर के कारण आपके स्वभाव में गंभीरता आ जाएगी। आप अपनी मन की बातें किसी से नहीं कहेंगे।
  • आपकी संतान से आपकी नोकझोक हो सकती है लेकिन ऐसी स्थिति में खुद को शांत रखने की कोशिश करें।
  • विद्यार्थियों का मन इस दौरान भटक सकता है इसलिए उन्हें ध्यान योग का सहारा लेने की सलाह दी जाती है।

कुंभ राशि (केतु गोचर 2020)

  • वर्ष की शुरुआत में केतु ग्रह का गोचर आपकी राशि से ग्यारहवें भाव में होगा, जिससे वर्ष की शुरुआत में ही किसी महंगे वाहन को खरीदने में आप पैसा लगा सकते हैं।
  • इस वर्ष समाज में आपकी नयी पहचान बनेगी और समाज सेवा की तरफ आपका रुझान बढ़ेगा।
  • जीवनसाथी के साथ टकराव हो सकता है जिसका जिम्मेदार आपका अहम भाव होगा।
  • जमीन में निवेश करना इस वक्त में अच्छा रहेगा।
  • सितंबर के बाद अपने घर या कार्यस्थल में किसी भी प्रकार के टकराव से बचें।

मीन राशि (केतु गोचर 2020)

  • वर्ष के आरंभ में केतु आपकी राशि से दशम भाव में स्थित होगा। जिसके कारण आप अपने व्यापार को लेकर भ्रमित रहेंगे और किसी भी तरह का फैसला नहीं ले पाएंगे।
  • कार्य को लेकर यात्राएं करने का योग बना हुआ है।
  • वैवाहिक जीवन में ख़ुशी का माहौल रहेगा और किसी नये मेहमान के आने से ये ख़ुशी दोगनी हो सकती है।
  • सितंबर के बाद धार्मिक यात्राओं का योग बन रहा है।

उम्मीद है कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपके लिए लाभदायक सिद्ध होगी। हम आपके उज्जवल भविष्य की कामना करते हैं ।