Personalized
Horoscope

Vrishabha Masik Rashifal in Hindi - Vrishabha Horoscope in Hindi - वृष मासिक राशिफल

Taurus Rashifal

स्वास्थ्य: वृषभ राशि के जातकों को स्वास्थ्य के मामले में आमतौर पर अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे, लेकिन फिर भी अष्टम भाव में केतु और द्वितीय भाव में राहु और बुध की युति होने से तथा नवम भाव में बृहस्पति और शनि की युति होने से हल्की-फुल्की समस्याएं परेशान कर सकती हैं। आपको रक्त संबंधित अनियमिततायें अथवा गुदा रोग होने की संभावना हो सकती है। इससे बचने के लिए अत्यधिक तेज मसालों का भोजन या गर्म भोजन ना करें। साथ ही गले में टॉन्सिल की समस्या परेशान कर सकती है। इसलिए अधिक ठंडा भोजन भी करने से बचना चाहिए। बृहस्पति और शनि की नवम भाव में युति आपकी स्वास्थ्य समस्याओं को थोड़ा बढ़ा सकती है, क्योंकि आपके लिए बृहस्पति अष्टमेश और एकादशेश होकर वक्री अवस्था में है। ऐसे में अधिक वसायुक्त भोजन करने से बचें और नियमित खान पान की आदत डालें। बाहर का खाना कुछ दिनों के लिए त्याग दें तथा भरपूर मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें। ऐसा करने से आप अच्छे स्वास्थ्य का आनंद ले पाएंगे।

कैरियर: करियर के मामले में आपको काफी बेहतरीन नतीजे मिलेंगे, क्योंकि नवम भाव और दशम भाव का स्वामी शनि एकादश भाव के स्वामी देव गुरु बृहस्पति के साथ नवम भाव में तथा दशम भाव में दिग्बली मंगल की उपस्थिति आपको कार्यक्षेत्र में श्सिरमौर बनाएगी। कुछ लोगों का इस दौरान मनचाहा ट्रांसफर हो सकता है, जिससे शुरू में उन्हें कुछ परेशानी तो अवश्य होगी, लेकिन धीरे-धीरे स्थितियाँ उन्हें अनुकूलता की ओर ले जाएंगी और वे काफी प्रसन्न होंगे। व्यापारियों को इस दौरान व्यापार में अच्छा खासा लाभ मिल सकता है और जो लोग रियल एस्टेट के कारोबार से जुड़े हैं या गारमेंट व्यवसाय में हैं या फिर सेमी टेक्निकल और इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी से जुड़े हैं, उन्हें बहुत अच्छा लाभ मिल सकता है। इसके अलावा फर्नीचर का काम करने वाले लोगों के लिए भी समय बेहतरीन रहेगा।

प्रेम / विवाह / व्यक्तिगत संबंध: प्रेमी युगल के दृष्टिकोण से देखने पर पता चलता है कि महीना तेज़तर्रार बातों के लिए जाना जाएगा। आप एक दूसरे को मीठी-मीठी चुभने वाली बातें करेंगे, जिससे एक दूसरे को हंसी भी आएगी और थोड़ा गुस्सा भी, लेकिन वो गुस्सा भी प्यार वाला होगा। इस प्रकार आपका प्यार खट्टी मीठी बातों के साथ आगे बढ़ेगा। मंगल की दृष्टि पंचम भाव पर महीने के पूर्वार्ध में रहेगी, जिससे कभी कभी एक दूसरे के प्रति आप का पारा चढ़ सकता है और बात बढ़ सकती है, लेकिन ज्यादा गंभीर बात नहीं होगी और उसके बाद धीरे-धीरे स्थिति में बदलाव आने लगेंगे। बस आपको एक बात का ध्यान रखना है कि प्यार एक कोमल भावना है, जिसमें किसी भी प्रकार की जल्दबाजी ठीक नहीं है। अपने प्रियतम को अपने निकट आने का समय दें और कोशिश करें कि वह आपको अच्छे से समझ सकें। इसी से आपकी लव लाइफ बेहतर बनेगी। यदि आप शादीशुदा हैं तो, इस दौरान आपका जीवन साथी आपके काम में आपका काफी हाथ बँटाएगा और यदि आप साझेदारी में बिज़नेस करते हैं तो भी, आपके जीवनसाथी का उसमें महत्वपूर्ण रोल रहेगा, लेकिन हल्की फुल्की दिक्कतें आ सकती हैं, जिनमें आपके जीवनसाथी का आपके परिजनों से किसी बात को लेकर झगड़ा संभव है। ऐसे में थोड़ा ध्यान से रहें और अपने ससुराल पक्ष के लोगों से भी किसी प्रकार के बुरे वचन ना कहें, जिससे उनका मन दुखी हो। अपनी संतान की ओर से आप काफी प्रसन्नता का अनुभव करेंगे। पंचम भाव पर पड़ रही बृहस्पति की दृष्टि के कारण संतान आज्ञाकारी भी होगी और आपकी बातें मानेगी भी, इस वजह से आपका मन काफी प्रसन्न रहेगा।

सलाह: इस महीने उपाय के तौर पर आपको हीरा अथवा ओपल रत्न चाँदी या सफ़ेद सोने की अंगूठी में शुक्ल पक्ष के किसी भी शुक्रवार को अपनी अनामिका अंगुली में धारण करना चाहिए। इसके अतिरिक्त आपको नीलम रत्न भी शनिवार के दिन पंचधातु अथवा अष्टधातु की मुद्रिका में मध्यमा अंगुली में धारण करना चाहिए। आपको प्रतिदिन सच्चे मन से माता सरस्वती अथवा माता राधा या तारा जी की पूजा करनी चाहिए और गौ माता को हरा चारा, हरी सब्ज़ियाँ और गेहूं का आटा अपने दोनों हाथों से खिलाना चाहिए।

सामान्य: जून का महीना वृषभ राशि वाले जातकों के लिए अच्छा रहेगा। आपकी राशि का स्वामी राशि में ही स्थित होकर आपको मजबूती देगा, जिससे आप हर चुनौती का डटकर सामना कर पाएंगे और आपकी बातों में एक अजब सा आकर्षण होगा, जो लोगों को आपकी ओर खींचेगा और आप अपना काम निकलवाने में सफल रहेंगे। वहीं सूर्य की आपकी राशि में उपस्थिति होने से आप थोड़े अहम को भी पाल सकते हैं, जिससे दूर रहना बेहतर होगा। महीने के उत्तरार्ध में सूर्य का गोचर दूसरे भाव में राहु और बुध के साथ होगा। यह स्थिति कुटुंब में किसी झगड़े को जन्म दे सकती है। इसलिए थोड़ा संभल कर रहें। हालांकि आपकी वाणी के कारण कुछ समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं, इसलिए तोलमोल कर बोलना ही बेहतर होगा। मंगल की स्थिति इस पूरे महीने आपके फायदे का कारण बनेगी और भाग्य का आपको भरपूर साथ मिलेगा। लंबी यात्राएं सुखदायक होंगी।

वित्त: आर्थिक मामलों पर दृष्टि डालें तो, राहु का दूसरे भाव में उपस्थित होना, आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं होगा और आप ना केवल धन कमाएंगे, बल्कि धन संचित कर पाने में भी सफल होंगे। इसके अतिरिक्त जैसे ही मंगल का गोचर आपके ग्यारहवें भाव में महीने के उत्तरार्ध में होगा, आप धन अर्जित भी कर पाएंगे और धन अर्जन की गति भी तेज रहेगी। इसका मतलब है कि आपकी आमदनी में उत्तरोत्तर वृद्धि होगी और आपका धन संचित होगा। इस प्रकार इस महीने आप अच्छा धन अर्जित कर पाने में सफल होंगे। नवम भाव में शनि भी आपके धन अर्जन की गति को बढ़ाएगा, क्योंकि वह एकादश के स्वामी बृहस्पति के साथ बैठा है। इस महीने आपके खर्चे भी नियंत्रण में रहेंगे, जिसकी वजह से आपकी आर्थिक स्थिति काफी मजबूत होगी और पिछले कुछ महीनों के मुकाबले इस महीने आप आर्थिक तौर पर ज्यादा मजबूत महसूस करेंगे।

पारिवारिक: आइए अब नजर डालते हैं आपके पारिवारिक जीवन पर। सूर्य और शुक्र की प्रथम भाव में उपस्थिति होने से परिवार आप को समर्पित रहेगा और आप परिवार के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को समझते हुए घरेलू कामों पर ध्यान देंगे और घरेलू खर्च भी करेंगे। घर की साज-सज्जा पर भी कोई खर्च कर सकते हैं और घर की सुविधा को बढ़ाने का भी कोई काम या कोई ऐसा यंत्र घर पर लेकर आ सकते हैं, जिससे घर वालों को सुविधा हो, जैसे टीवी, रेफ्रिजरेटर, एयर कंडीशनर, आदि या फिर कोई नया गैजेट भी घर वालों के लिए खरीद सकते हैं। हालांकि आपके अंदर यह सब करने के बाद एक अहम् भी उत्पन्न होगा कि यह सब मैंने किया है, लेकिन इस आदत को बदलना बेहतर होगा, क्योंकि यह आपका परिवार है और परिवार वालों के प्रति कुछ भी कार्य करना आपकी ज़िम्मेदारी है। मंगल की चतुर्थ भाव पर दृष्टि होने के कारण हल्की-फुल्की तनातनी हो सकती है, लेकिन कोई बड़ी समस्या होने की संभावना कम ही है। वाणी को तोल मोल प्रयोग करना ही बेहतर रहेगा, क्योंकि आप अपनी बातों से अपने सामने वालों को प्रसन्न तो कर देंगे, लेकिन बातों को पूर्ण नहीं कर पाए तो उन्हें दुख होगा। इसलिए अच्छे संबंध बनाए रखने का प्रयास करें।