Personalized
Horoscope

Kanya Masik Rashifal in Hindi - Kanya Horoscope in Hindi - कन्या मासिक राशिफल

Virgo Rashifal

स्वास्थ्य: स्वास्थ्य के लिहाज से अक्टूबर महीना मिले-जुले प्रभाव वाला रहेगा। महीने की शुरुआत सेहत के लिए थोड़ी परेशानी वाली हो सकती है। वैसे किसी बड़ी परेशानी की आशंका नहीं है, पर शरीर में बहुत अधिक कमजोरी, थकान महसूस हो सकती है। तेज बुखार और सिरदर्द की शिकायत भी हो सकती है। बेवजह की भागदौड़ से बचें। अनावश्यक तनाव भी न लें। खानपान का पूरा ध्यान रखें। अपनी दिनचर्या को ठीक बनाए रखें। योग-व्यायाम आदि नियमित रूप से करें। माह का उत्तरार्ध सेहत के लिहाज से आपके लिए अनुकूल रहेगा।

कैरियर: कन्या राशि के जातकों के लिए अक्टूबर का महीना कामकाज और करियर के लिहाज से आनंददायक रहने वाला है। कामकाज में सफलता मिलेगी। कुछ नए अवसर खुल सकते हैं। जिन लोगों को रोजगार की तलाश है, उनके लिए कुछ अवसरों की संभावना बन सकती है। नौकरीपेशा लोगों के लिए यह प्रमोशन का समय है। ट्रांसफर आदि की संभावना भी हो सकती है। नौकरी में बदलाव की इच्छा मन में जन्म ले सकती है। नौकरीपेशा लोगों को काम के प्रति गंभीरता और अपनी योजनाओं के प्रति गोपनीयता बनाकर रखने की जरूरत है, अन्यथा परेशानी खड़ी हो सकती है। वृहस्पति और शनि की पंचम भाव में उपस्थिति व्यापार के लिए बहुत अच्छी साबित हो सकती है। व्यापार में वृद्धि का योग बनेगा। अपने कारोबार को विस्तार देने की दिशा में प्रयास करेंगे, जो सफल भी रहेगा। नए संपर्क बनेंगे। इन संपर्कों से लाभ भी होगा।

प्रेम / विवाह / व्यक्तिगत संबंध: प्रेम संबंधों के लिहाज से यह महीना आमतौर पर आनंददायक रहने वाला है। प्रेमी युगल के लिए यह समय अच्छा कहा जाएगा। ग्रहों की स्थिति आपके लिए अनुकूल है। गुरु और शनि दोनों का सहयोग मिलेगा। प्रियतम के साथ संबंधों में मधुरता आएगी। साथ में काफी समय बिताने को मिलेगा। घूमने-फिरने का कार्यक्रम बन सकता है। आपसी तालमेल बहुत अच्छा रहेगा। 22 अक्टूबर तक प्रेम संबंधों के लिए तो हर लिहाज से आनंद-उमंग का समय रह सकता है। 22 अक्टूबर को मंगल का राशि परिवर्तन हो रहा है। वे आपके दूसरे भाव में पहुंच जाएंगे और वहां से चतुर्थ दृष्टि से पंचम भाव को देखेंगे। इससे आपके स्वभाव में कटुता आ सकती है। थोड़ा हावी होने की प्रवृत्ति दिखेगी। चीजों में मीन-मेख निकालने की प्रवृत्ति बढ़ेगी। इससे प्रियतम को असहजता महसूस हो सकती है और कहा-सुनी हो सकती है। आप इससे बचें, अन्यथा पूरे महीने का आनंददायक समय कलह और विवाद के कारण व्यर्थ हो जाएगा। वाणी में मधुरता लाएं और हावी होने की आदत को कम करें। विवाहित लोगों के लिए समय बहुत अच्छा नहीं कहा जाएगा। राशि में मंगल और सूर्य की उपस्थिति है। जहां से वे जीवनसाथी के भाव को देख रहे हैं। दोनों ग्रह गर्म प्रवृत्ति के हैं। यह जातक के स्वभाव में उग्रता और कठोरता पैदा कर देते हैं। इसलिए छोटी-मोटी बात पर भी बहस और झगड़ा शुरू हो सकता है। समय अनुकूल नहीं है। जितना संभव हो, वाद-विवाद को टालें। बेहतर है कि मौन धारण कर लें। निश्चय कर लें कि जब जीवनसाथी के साथ हों, बहुत नपे-तुले शब्दों का प्रयोग करना है और कम से कम बोलना है। वक्री बुध भी आपकी राशि में हैं। इससे आप समझ ही नहीं पाएंगे कि आपकी तरफ से क्या गलतियां हो रही हैं। आपका जीवनसाथी अगर बताएगा तो आप उसे स्वीकार कर सुधारने की बजाय उससे उलझ पड़ेंगे। आपके लिए यह चुनौतीपूर्ण समय है।

सलाह: आपके लिए उत्तम गुणवत्ता का पन्ना रत्न कनिष्ठिका उंगली में बुधवार के दिन धारण करना बेहद अच्छा रहेगा। प्रतिदिन श्री विष्णु सहस्त्रनाम स्तोत्र का पाठ करें। किन्नरों को कोई भेंट देकर उनका आशीर्वाद लें। बुधवार से शुरू करके प्रतिदिन बुध देव के बीज मंत्र का जाप करें। भगवान शिव को शुक्रवार के दिन खस का इत्र अर्पित करें।

सामान्य: कन्या राशि के जातकों के लिए अक्टूबर का महीना बेहतर रहने वाला है। काम-धंधे के दृष्टिकोण से यह भरपूर सफलता देने वाला महीना रहेगा। नौकरी, व्यापार में उन्नति देखने को मिलेगी। आत्मविश्वास बना रहेगा और आपकी प्रशंसा भी होगी। विद्यार्थियों के लिए भी यह महीना सुखद और सफलतादायक रहने वाला है। आपकी छवि एक आदर्श विद्यार्थी की रहेगी। पढ़ाई-लिखाई को लेकर आप जागरूक रहेंगे। लक्ष्य को ध्यान में रखकर पूरी लगन से मेहनत करेंगे। पारिवारिक जीवन के अनुभव कुछ खट्टे-कुछ मीठे रह सकते हैं। आपके स्वभाव में कुछ खिन्नता और चिड़चिड़ापन देखा जा सकता है। किसी से भी उलझ जाने को आप आतुर हो सकते हैं। इसको लेकर सतर्क रहना जरूरी है। स्वभाव में मधुरता लाइए। जो प्रेम में हैं, उनके लिए यह महीना कुल मिलाकर आनंददायक रहने वाला है। साथी के साथ सामंजस्य बना रहेगा। विवाहित लोगों के लिए समय चुनौतीपूर्ण है। रिश्तों को मधुर रखने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने होंगे। आमदनी के दृष्टिकोण से यह महीना आपके लिए बहुत उत्साहित करने वाला रहेगा। धनामगन होगा, धन के नए स्रोत खुलेंगे और आप धन का संचय करने में भी सफल होंगे। निवेश आदि भी हो सकता है। स्वास्थ्य के लिहाज से समय मिला-जुला है। छोटी-मोटी परेशानियां आएंगी, पर आप उनका कुशलता से उनका सामना कर लेंगे।

वित्त: आर्थिक दृष्टिकोण से बात की जाए, तो अक्टूबर का महीना आपके लिए उत्साहजनक रहने वाला है। धन-धान्य की प्रचुरता बनी रहेगी। महीने की शुरुआत में ही शुक्र और बुध दूसरे भाव में विराजमान हैं। यह शुक्र की अपनी राशि भी है। काम में वांछित सफलता मिलेगी। धनागमन होता रहेगा। हर कार्य में लाभ के अवसर बनेंगे। व्यापार के लिए समय विशेष रूप से अनुकूल रहेगा। कारोबार में विस्तार हो सकता है। हालांकि पहले ही सप्ताह में दोनों ग्रह राशि परिवर्तन कर लेंगे, पर आपके आय के स्रोत बने रहेंगे। पंचम भाव बैठकर शनि और वृहस्पति दोनों ही ग्यारहवें भाव को देख रहे हैं, जो आय का भाव है। इससे धनागमन भरपूर होगा। नौकरपीपेशा लोगों के लिए भी आय के कोई नए स्रोत खुल सकते हैं। बुद्धि-विवेक का प्रयोग करके जीविकोपार्जन करने वालों के लिए भी आय के अवसर बनेंगे। उत्तरार्ध में सूर्य राशि परिवर्तवन करके धन भाव में पहुंच जाएंगे। इससे धन के सही इस्तेमाल और संचित करके रखने की प्रवृत्ति भी रहेगी। आपका बैंक बैलेंस बढेगा। फिर मंगल के भी आ जाने से अचल संपत्ति में निवेश की इच्छा होगी। वाहन आदि का सुख मिल सकता है।

पारिवारिक: पारिवारिक जीवन के लिहाज से अक्टूबर का महीना मिश्रित फल देने वाला रहेगा। पारिवारिक संबंधों में उतार-चढ़ाव की स्थिति बनी रहेगी। महीने के पूर्वार्ध में सुख के द्योतक चतुर्थ भाव पर मंगल की दृष्टि रहेगी। इससे पारिवारिक जीवन में कुछ परेशानियां, कुछ चुनौतियां आ सकती हैं। परिजनों के स्वभाव में उग्रता, चिड़चिड़ापन रह सकता। छोटी-मोटी बातों पर भी घर के सदस्य आवेशित हो सकते हैं। तनाव का माहौल हो सकता है। 17 अक्टूबर को सूर्य के दूसरे भाव में चले जाने और बुध के 2 अक्टूबर से वक्री होकर आपकी राशि में प्रवेश करने से स्थितियों में सुधार दिखेगा। आपके व्यवहार की उग्रता कम होने से थोड़ा फर्क पड़ने लगेगा। सामंजस्य की स्थिति भी बनेगी। 22 अक्टूबर को मंगल भी राशि परिवर्तन करके दूसरे भाव में चले जाएंगे। इससे कुटुंब में किसी बात को लेकर झगड़े की आशंका पैदा हो सकती है। संपत्ति को लेकर कोई विवाद हो सकता है। भाई-बहनों के साथ परिवार में कोई विवाद होने की आशंका है। समस्याओं का निवारण प्रेम भाव से तलाशने की कोशिश करेंगे, तो आपकी बात बन जाएगी। अपने स्वभाव की उग्रता पर नियंत्रण करने के प्रयास करें।