Personalized
Horoscope

Karka Masik Rashifal in Hindi - Karka Horoscope in Hindi - कर्क मासिक राशिफल

Cancer Rashifal

स्वास्थ्य: स्वास्थ्य के नजरिए से अक्टूबर का महीना अगर बहुत खराब नहीं तो बहुत अच्छा भी नहीं कहा जा सकता। सेहत के लिहाज से यह महीना मिश्रित फल वाला रहेगा। महीने के पूर्वार्ध में आपकी सेहत संबंधी समस्याओं में कमी आएगी। यदि पहले से सेहत खराब चल रही थी, तो उसमें सुधार हो सकता है। लेकिन आपको जरा-सी भी लापरवाही नहीं बरतनी है। यह सुधार आंशिक है। अपनी नियमित दिनचर्या को एकदम दुरुस्त रखें। सप्तम और अष्टम भाव के स्वामी शनि तथा छठे भाव के स्वामी वृहस्पति की सप्तम भाव में युति हो रही है। यह नई बीमारियों की ओर इशारा कर रही है। ऐसी स्थिति में अक्सर बीमारी का पता देर से चलता है या फिर व्यक्ति लापरवाही करता है। आपको अक्टूबर महीने में यह बिल्कुल नहीं करना है। सेहत को लेकर कोई हल्की-सी भी समस्या शुरू हो, तो तत्काल डॉक्टर से सलाह लें। इससे परेशानी शुरुआत में ही पकड़ में आ जाएगी और आपके लिए चीजें नियंत्रण रहेंगी। आवश्यक न हो तो यात्राओं से बचें। सेहत को लेकर कोई भी कोताही आपको इस महीने नहीं करनी है। खानपान, योग-व्यायाम आदि का पूरा ध्यान रखना है। चिंता की कोई बात नहीं होगी।

कैरियर: काम-काज और करियर के दृष्टिकोण से अक्टूबर का महीना आपके लिए सुखद रहने वाला है। महीने की शुरुआत में शुक्र और बुध की दृष्टि दशम भाव पर होने से और छठे भाव के स्वामी वृहस्पति के शनि के साथ सप्तम भाव में होने से कार्यक्षेत्र में अच्छे योग बनेंगे। नौकरीपेशा लोगों की बात करें तो कामकाज में व्यस्तता रहेगी। काम अधिक रहने के बाद भी आप अपने काम को समय रहते पूरा कर पाएंगे, जिससे आपकी प्रशंसा होगी। काम पूरा करने की एवज में कुछ आर्थिक लाभ भी मिल सकता है। आपकी पदोन्नति की बात हो सकती है या फिर तनख्वाह में कुछ बढ़ोतरी की संभावना बन सकती है। हालांकि शुक्र और बुध दोनों ही सप्ताह की शुरुआत में ही राशि परिवर्तन भी कर लेंगे, परंतु वे आपके लिए शुभता का अवसर बनाकर जाएंगे। 17 अक्टूबर को सूर्य का तुला राशि में गोचर होगा। सूर्य की दशम भाव पर दृष्टि होगी। आपमें अपनी जिम्मेदारियों को पूरा करने का एक अलग जोश आएगा और आपको पुन: प्रशंसा मिलेगी। उसके बाद मंगल भी 22 अक्टूबर को गोचरवश चतुर्थ भाव में आ जाएंगे और दशम भाव को देख रहे होंगे। इससे आपके रोजी-रोजगार में उन्नति के योग बनेंगे। सप्तम भाव में वृहस्पति और शनि की स्थिति तथा महीने के पूर्वार्ध में सूर्य व मंगल की तीसरे भाव में स्थिति तथा राहु की एकादश भाव में स्थिति से व्यापार-कारोबार में उत्तम सफलता के योग बन रहे हैं। व्यापार के क्षेत्र में किसी नई योजना पर आप काम शुरू कर सकते हैं, जो आपके लिए लाभदायक सिद्ध होगी। आपको सब तरफ से सहयोग मिलेगा, जिससे आप आपने कारोबार को नई ऊंचाई दे सकेंगे। आपकी योजनाएं सफल होंगी। आप उत्साह और आत्मबल से भरे होंगे। कुल मिलाकर रोजी-रोजगार के लिहाज से आपके वारे-न्यारे रहेंगे।

प्रेम / विवाह / व्यक्तिगत संबंध: जो लोग प्रेम संबंधों में हैं, उनके लिए तो अक्टूबर का महीना उत्सव की तरह रहने वाला है। केतु आपके पंचम भाव में बैठे हैं। ये थोड़ा मन को भ्रमित करते हैं। संदेह और गलतफहमियां पैदा करते हैं। थोड़ी कहा-सुनी, शिकवे-शिकायत, रूठने और नाराजगी की स्थिति पैदा करके रखेंगे, लेकिन इनकी ज्यादा चलेगी नहीं, क्योंकि 2 अक्टूबर को प्रेम के कारक शुक्र गोचर करते हुए आपकी राशि के पंचम भाव में प्रवेश कर जाएंगे। फिर सारे शक-संदेह दूर हो जाएंगे और चारों तरफ से आपके कानों में प्रेम की घंटियां बजने लगेंगी। प्रेमी युगल एक दूसरे को बेहतर समझने का प्रयास करेंगे। तालमेल बनेगा। प्रियतम के साथ खूब समय बिताने का अवसर मिलेगा। साथ में घूमने फिरने के लिए किसी छोटे-मोटे टूर पर जाने का भी कार्यक्रम बन सकता है। एक दूसरे के साथ घूमते-फिरते, शॉपिंग-सिनेमा का आनंद लेते हुए महीने का पूर्वाध बीतेगा। पर महीने का उत्तरार्ध आपका मजा किरकिरा कर सकता है। आपके प्रेम संबंधों की परिवार वालों को खबर हो सकती है। इससे कुछ कलह-क्लेश भी हो सकता है। घर-परिवार में कोई विवाद या कोई चुनौतियां खड़ी हो सकती हैं, जिसका असर असर प्रेम संबंधों पर पड़ सकता है। एक दूसरे के साथ मजबूती से खड़े रहें। समझदारी से काम लें और एक दूसरे का सहारा बनें। विवाहित जातकों के लिए उत्तम समय है। शनि और वृहस्पति की सप्तम भाव में स्थिति आपसी सामंजस्य को बढ़ाने वाली होगी। पारिवारिक और निजी जिम्मेदारियों को समझ कर एक दूसरे का साथ देने की इच्छा बढेगी। दांपत्य जीवन में समझदारी बढ़ने से प्रेम भी बढ़ता है। जरूरत पड़ने पर आपके कामकाज, स्वरोजगार, व्यापार में भी जीवनसाथी से भरपूर सहयोग मिलेगा। इससे आपको लाभ भी होगा। कुल मिलाकर दांपत्य जीवन का आप भरपूर सुख लेंगे।

सलाह: आपको 2 मुखी रुद्राक्ष सोमवार के दिन धारण करना चाहिए। मंगलवार के दिन हनुमान जी को बूंदी का प्रसाद चढ़ाएं। इसके अतिरिक्त आपको प्रत्येक सोमवार के दिन शिवलिंग पर दूध अर्पित करना चाहिए। शनिवार के दिन सरसों के तेल का दान करना चाहिए। बुधवार के दिन काले तिलों का दान करना चाहिए।

सामान्य: अगर स्वास्थ्य की बाधाओं को छोड़ दें, तो अन्य सभी चीजों के लिए अक्टूबर का महीना सुखद रहने वाला है। हालांकि जब तक सेहत अच्छी न रहे, कोई भी सुख भरपूर आनंद नहीं देता, लिहाजा इस महीने आपको सेहत को लेकर सचेत रहना है। कोई बड़ी बाधा नहीं है, लेकिन लापरवाही बरतना ठीक नहीं है। कामकाज के लिहाज से यह महीना तरक्की और प्रतिष्ठा से भरा रहने वाला है। आय में वृद्धि होगी। प्रमोशन-बोनस की बात हो सकती है। विद्यार्थियों के लिए यह माह मिश्रित फल वाला रहेगा। उन्हें ज्यादा लगन के साथ और अधिक परिश्रम करने की जरूरत होगी। व्यापार-कारोबार के लिए लाभदायक समय रहेगा। आय के नए स्रोत खुलेंगे। घर-परिवार में भी सुख-शांति रहेगी। माता-पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखना है। इस महीने प्रेम और दांपत्य जीवन परीक्षा में तपकर और निखरेगा। सामंजस्य बढ़ेगा। कुल मिलाकर आपके लिए समय अच्छा रहने वाला है।

वित्त: आर्थिक दृष्टिकोण से यह महीना आपके लिए कुल मिलाकर लाभदायक ही रहने वाला है। महीने का पूर्वार्ध विशेष सफलतादायक हो सकता है। शासन-सत्ता के सहयोग से आपके कार्य बनेंगे। आय के नए अवसर खुल सकते हैं। यदि आप सरकारी क्षेत्र से धन उपार्जन करते हैं, तो आपके लाभ के प्रबल योग हैं। आपमें कुछ नया करने का उत्साह रहेगा। आपके इस उत्साह को लोगों का समर्थन और विश्वास भी मिलेगा। निजी प्रयासों से सफलता के योग बन रहे हैं। आप अपने प्रयास जारी रखेंगे, तो निश्चित लाभ होगा। शुक्र के पंचम भाव में जाने से आमदनी में वृद्धि होने की संभावना है। आय के अवसर बढ़ेंगे, साथ ही आप अपनी सुख-सुविधाओं पर भी कुछ खर्च करना चाहेंगे। परिवार के सदस्यों को उपहार आदि भेंट करेंगे और आपको भी उपहार मिल सकते हैं। उत्तरार्ध में मंगल भी गोचरवश चतुर्थ भाव में स्थित होकर एकादश भाव को दृष्टि देंगे। इससे जमीन-जायदाद, प्रॉपर्टी का काम करने वालों के लिए लाभ के अवसर बनेंगे। आपको भी किसी प्रकार की अचल संपत्ति का लाभ हो सकता है या फिर कोई अचल संपत्ति की खरीद-बिक्री की बात चल सकती है। मित्रों के सहयोग से आय के नए अवसर खुलेंगे, लेकिन हर निर्णय नफे-नुकसान का पूरा हिसाब लगाने और घर-परिवार के लोगों के साथ चर्चा-परामर्श के बाद ही करें।

पारिवारिक: पारिवारिक सुख-शांति के लिहाज से अक्टूबर का महीना आपके लिए मिले-जुले प्रभाव वाला रह सकता है। चतुर्थ भाव घर-परिवार के सुख का भाव माना जाता है। यहां शुक्र और बुध स्थित हैं, जो पारिवारिक जीवन में खुशियां भरने वाले हैं। आप घर की साज-सज्जा के लिए मन बना सकते हैं। रंग-रोगन, बागवानी आदि विभिन्न तरीकों से घर को सुंदर बनाने की योजना बन सकती है। माता-पिता की सेहत अच्छी रहेगी। माता-पिता का आशीर्वाद मिलेगा। मन प्रसन्न रहेगा। परिवार के साथ सुखमय समय व्यतीत होगा। महीने के पूर्वार्ध में छोटे भाई बहनों की आर्थिक तौर पर आप मदद भी करेंगे। आपका मान-सम्मान बना रहेगा। संतान की ओर से महीने के पूर्वार्ध में कुछ छोटी-मोटी समस्या आ सकती है, जिसे आप आसानी से सुलझा भी लेंगे। लेकिन महीने के उत्तरार्ध में आपको मानसिक कष्ट हो सकता है। सूर्य और मंगल के चतुर्थ भाव में आने से परिवार में कुछ परेशानियां खड़ी हो सकती हैं। कोई पुराना विवाद या संपत्ति से जुड़ा कुछ क्लेश हो सकता है। या फिर हो सकता है कि माता-पिता के स्वास्थ्य में अचानक कोई परेशानी आ जाए, जो आपको मानसिक कष्ट देने वाली हो सकती है। धैर्य से और परिवार के सभी लोगों को साथ लेकर इन चुनौतियों का सामना करें। आप इसमें सफल भी होंगे और परिवार में आपकी प्रतिष्ठा और बढ़ेगी।