Personalized
Horoscope

Meena Masik Rashifal in Hindi - Meena Horoscope in Hindi - मीन मासिक राशिफल

Pisces Rashifal

स्वास्थ्य: सेहत के लिहाज से मीन राशि के जातकों के लिए अक्टूबर का महीना सावधानी से रहने का है। असावधानी आपके लिए परेशानियां लेकर आ सकती है। सूर्य और मंगल आपकी कुंडली के सप्तम भाव में स्थित हैं। इसके अलावा, 2 अक्टूबर को वक्री बुध सत्ता भाव में आ जाएंगे। ग्रहों का यह योग त्वचा रोगों से जुड़ी परेशानियों को बढ़ा सकता है। आपको त्वचा रोग हो सकते हैं और पहले से त्वचा की कोई बीमारी है, तो वह बढ़ सकती है। इसलिए त्वचा से संबंधित कोई भी परेशानी होती है, तो उसे नजरअंदाज न करें, चिकित्सक से तुरंत परामर्श लें। घबराने की कोई बात नहीं है। इस माह के दूसरे पक्ष में सूर्य और मंगल का गोचर अष्टम भाव में रहेगा। इस युति के कारण आपको रक्त संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। रक्त विकार की वजह से त्वचा पर कोई संक्रमण हो सकता है। फोड़े-फुंसी से परेशान रह सकते हैं। चिकित्सक से परामर्श लेने में कोई संकोच न करें। वाहन दुर्घटना के योग हैं, इसलिए वाहन चलाते समय पूरी सावधानी रखें। सड़क पर चलते समय पूरी सावधानी बरतें। सावधानी ही बचाव है।

कैरियर: करियर के लिहाज से नवंबर का महीना मीन राशि के जातकों के लिए कभी खुशी कभी गम वाला रहेगा। महीने का पहला पखवाड़ा खुशनुमा रहेगा, तो दूसरे पखवाड़े में कुछ परेशानियां भी आ सकती हैं। पहले पखवाड़े में आपको अच्छे समाचार मिल सकते हैं। आपके काम से खुश उच्च अधिकारियों की अनुशंसा से आपका प्रमोशन हो सकता है। लेकिन माह का दूसरा पखवाड़ा आपके लिए उतना अच्छा नहीं रहेगा। विरोधी आपको नुकसान पहुंचा सकते हैं, इसलिए सतर्क रहने की आवश्यकता है। जो लोग व्यवसाय करते हैं, उनके लिए भी महीने की शुरुआत अच्छी रहेगी। कारोबार में अनुकूल स्थितियां रहेंगी और लाभ के अवसर मिलेंगे। लेकिन अपने साझेदारों से संबंधों को संभाल कर रखें, अन्यथा नुकसान हो सकता है। महीने के उत्तरार्ध में आपको विशेष सावधान रहने की जरूरत है। 17 अक्टूबर को सूर्य के अष्टम भाव में जाने से आपकी समस्याएं बढ़ सकती हैं। साथ ही, 22 अक्टूबर को मंगल भी अष्टम भाव में आ जाएंगे, जिससे आपकी मुश्किलों में और वृद्धि हो सकती है। विरोधी ज्यादा सक्रिय हो जाएंगे, इसलिए अभी सावधानी ही मूल मंत्र है।

प्रेम / विवाह / व्यक्तिगत संबंध: प्रेम संबंधों के लिए यह समय मिश्रित फल देने वाला है। यानी कभी प्यार, कभी तकरार वाली स्थिति हो सकती है। लेकिन प्यार में तो यह सब चलता ही रहता है। आपकी कुंडली में वृहस्पति और शनि की पंचम भाव पर दृष्टि है। दोनों ग्रहों की यह युति प्रेम संबंधों में सच्चाई की भावना को बढ़ाती है। प्रेमी-प्रेमिका का एक-दूसरे पर विश्वास बढ़ता है। प्रेम-संबंध गहरे होते हैं। आप अपने रिश्ते में इमानदारी और गंभीरता को बनाए रखें। कोई ऐसा काम न करें, जिससे प्रेम की गरिमा पर आंच आए। और हां, आप जिससे प्रेम करते हैं, उसको विवाह का प्रस्ताव देने के लिए यह समय अनुकूल है। शुभ काम में देर न करें, तुरंत प्रस्ताव दे डालें। कौन जाने समय कब क्या हो जाए! प्रेमी युगलों के लिए तो यह समय ठीक है, लेकिन विवाहित जातकों के लिए ऐसा नहीं कहा जा सकता। उनके लिए यह समय फूंक फूंक कर कदम रखने का है। इस माह आपकी कुंडली में सूर्य और मंगल की स्थिति सप्तम भाव में है। इसकी वजह से महीने के पूर्वार्ध में जीवनसाथी के स्वभाव में गुस्से की अधिकता देखने को मिलेगी। विचारों की भिन्नता के कारण वाद-विवाद और झगड़े की आशंका है, जो संयम नहीं रखने पर विकराल रूप धारण कर सकता है। माह के उत्तरार्ध में मंगल और सूर्य अष्टम भाव में आ जाएंगे। मंगल और सूर्य के इस योग से आपके जीवनसाथी को स्वास्थ्य से जुड़ी कुछ समस्याएं हो सकती हैं। उनका ध्यान रखें। माह के उत्तरार्ध में ससुराल पक्ष से आपके संबंध कुछ खराब हो सकते हैं। अपनी तरफ से कोई समस्या न पैदा करें। धैर्य के साथ काम लें। संयम रखेंगे, तो शायद स्थितियां हाथ से बाहर न निकलें।

सलाह: आपको पुखराज रत्न सोने की अंगूठी में बृहस्पतिवार के दिन दोपहर के समय अपनी तर्जनी उंगली में धारण करना चाहिए। श्री राम रक्षा स्तोत्र का पाठ करना आपके लिए लाभदायक रहेगा। भगवान श्री हरि विष्णु जी को पीले पुष्प और पीला चंदन अर्पित करें। बुधवार के दिन श्री महा गणेश जी को दूर्वांकुर अर्पित करें। मंगलवार के दिन हनुमान जी के मंदिर जाकर उनके दाहिने पैर से तिलक लगाएं।

सामान्य: मीन राशि के जातकों के लिए अक्टूबर माह मिला-जुला फल देने वाला है। आपकी आर्थिक स्थिति इस महीने उत्तम रहेगी। नौकरीपेशा, कारोबारी, स्वरोजगार करने वाले यानी सभी पेशे वाले जातकों की आय में वृद्धि होगी। काम-धंधे में लाभ होगा। करियर की दृष्टि से पहला पखवाड़ा शुभ फल देने वाला रहेगा, लेकिन दूसरे पखवाड़े में कुछ दिक्कतें आ सकती हैं। इस दौरान हर कदम सावधानी से उठाने की जरूरत है। शिक्षा क्षेत्र में छोटी-मोटी बाधाओं के बावजूद पढ़ाई-लिखाई अच्छी चलेगी और प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता मिलने के योग हैं। उत्साह बनाए रखें। इस माह आपके घर-परिवार में वातावरण तनावपूर्ण हो सकता है। धैर्य से काम लें। विवाहित लोगों की अपने जीवनसाथी से अनबन हो सकती है। हां, प्रेम-संबंधों की दृष्टि से यह माह ठीकठाक रहेगा। रिश्ते परिपक्व होंगे। अक्टूबर माह में मीन राशि वालों की कुंडली में कुछ ऐसे योग बन रहे हैं, जिससे उन्हें त्वचा और रक्त संबंधी परेशानियां हो सकती हैं।

वित्त: कहते हैं कि पैसा हाथ में हो, तो आदमी बहुत सारी दिक्कतों का सामना कर लेता है। यह माह आपके लिए कुछ ऐसा ही संदेश लेकर आया है। अक्तूबर का महीना आर्थिक दृष्टिकोण से आपके लिए बहुत अच्छा है। इस माह धनागम की स्थिति काफी अच्छी रहेगी। वृहस्पति और शनि आपकी कुंडली के एकादश भाव में स्थित हैं। यह योग अच्छी आमदनी का परिचायक माना जाता है। कई स्रोतों से आपको आमदनी हो सकती है। कारोबार में आपको अच्छा लाभ होगा। अगर नौकरीपेशा हैं, तो आय के कुछ अतिरिक्त स्रोत बन सकते हैं। 22 अक्टूबर को मंगल अष्टम भाव में प्रवेश कर जाएंगे, जिसकी वजह से आपको अचानक कहीं से धन प्राप्त हो सकता है। लंबे समय से कोई फंसा हुआ पैसा आपको इस माह मिल सकता है। गुप्त स्रोतों से भी आपको धन प्राप्त हो सकता है। कारोबारियों और व्यावसायियों के लिए महीने की शुरुआत काफी अच्छी रहेगी। कारोबार काफी अच्छा चलेगा। कई बार काम अच्छा चलने के बाद भी उस अनुपात में लाभ नहीं होता, लेकिन आपको इस महीने पर्याप्त लाभ होने की भी संभावना है। एक बात का ध्यान रखना जरूरी है। लोभ में आकर गलत तरीके न अपनाएं, नहीं तो लेने के देने पड़ सकते हैं। उत्तरार्ध में स्थिति में थोड़ा बदलाव हो सकता है। खर्चों में वृद्धि हो सकती है, खासकर किसी सरकारी कानून के कारण आपको उम्मीद से ज्यादा खर्च करना पड़ सकता है।

पारिवारिक: इस माह मीन राशि के जातकों का पारिवारिक जीवन काफी उतार-चढ़ाव भरा रहेगा। कई बार आपके लिए उलझन वाली स्थिति पैदा हो सकती है। घर-परिवार में तनाव का वातावरण हो सकता है। चतुर्थ भाव का स्वामी बुध आपकी कुंडली के आठवें भाव में बैठा है। इस स्थिति की वजह से आपके विचारों में उतार-चढ़ाव रह सकता है, जिसके परिणामस्वरूप परिजनों से आपके संबंधों में खटास आ सकती है और अप्रिय स्थितियां पैदा हो सकती हैं। हालांकि 2 अक्टूबर को वक्री बुध सप्तम भाव में आ जाएंगे और स्थिति में अपेक्षाकृत थोड़ा सुधार आ सकता है। लेकिन इसके बावजूद स्थिति पूरी तरह से आपके नियंत्रण में नहीं रहेगी। परिवार में आपसी तनाव बढ़ सकता है। परिजनों में वाद-विवाद हो सकता है। जीवनसाथी के साथ आपके संबंध खराब हो सकते हैं, जिससे मानसिक तनाव हो सकता है। लेकिन इन सबके बीच एक राहत की बात यह है कि आपको अपने छोटे भाई-बहनों का पूरा सहयोग मिलेगा, जो आपके विचलित और उद्वेलित मन को थोड़ी शांति प्रदान करेगा। आपकी कुंडली में अभी जो योग हैं, उसके अनुसार यह माह आपके छोटे भाई-बहनों के लिए अच्छा रहेगा।